2021-07-16

Blockchain Technology क्या है और इसका क्या महत्त्व है?



दोस्तों अगर आप ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के बारे में जानने के लिए उत्सुक है और विस्तार से जानना चाहते हैं की यह किस प्रकार कार्य करती है तथा इसके द्वार पूरी दुनिया का भविष्य कैसे बदल सकता है। आज अपने इस ब्लॉग पोस्ट मैं आपको इसकी पूरी जानकारी दूँगा, तो चलिए शुरू करते हैं। 


What-is-Blockchain-Technology ?

ब्लॉकचेन तकनीक (Blockchain Technology in Hindi)

क्या हैं BLOCKCHAIN? ब्लॉकचेन के बारे में जानने से पहले आप इस बात को बखूबी समझ लें, कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी और बिटक्वॉइन जिसे क्रिप्टोकरेंसी भी कहते हैं, दोनों गंगा के दो अलग-अलग किनारे हैं। 


यानी दोनों पूरी तरह से अलग हैं। ब्लॉकचेन एक टेक्नोलॉजी, एक प्लेटफॉर्म हैं जहां ना सिर्फ डिजिटल करेंसी बल्की किसी भी चीज को डिजिटल बनाकर उसका रिकॉर्ड रखा जा सकता है। यानी ब्लॉकचैन एक डिजिटल लेजर हैं। वहीं बिटक्वॉइन (क्रिप्टोकरेंसी) एक डिजिटल माध्यम है, जिसके जरिए हम और आप या कोई अन्य कुछ चीजें बेच औऱ खरीद सकता है। 


हालांकि इसे करेंसी कहना गलत हैं, क्योंकि असल दुनिया में भौतिक रूप से इसका कोई अस्तित्व नहीं हैं। अगर आपने कभी पहले ध्यान दिया हो तो इसे आप इस तरीके से समझें जैसे कुछ रेस्टोरेंट्स या स्कूल, कॉलेज की कैंटीन्स में टोकन सिस्टम का उपयोग होता है अलग से सिक्के की शक्ल में टोकन दिए जाते हैं, जिसकी कीमत सिर्फ रेस्टोरेंट्स या कैंटीन्स के अंदर तक ही सिमित है, बाहर बाजार में वो एक कूड़ा थी, इसी तरह बिटक्वाइन (क्रिप्टोकरेंसी) भी है अगर संभव हुआ तो इसका उपयोग आप डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कुछ सिमित वस्तुएँ खरीदने के लिए कर सकते हैं।              


तकनीकी के इस युग में आए दिन किसी न किसी सेवा के ऑनलाइन उपलब्ध होने की खबरें मिलती रहती हैं। इसका एक महत्वपूर्ण प्रकार ब्लॉकचेन के रूप में हमारे सामने उभर रहा है। हालाँकि यह तकनीक अभी विकास के दौर में है लेकिन ब्लॉकचेन तकनीक का सर्वाधिक उपयोग क्रिप्टोकरेंसी में किया जाता है।


क्रिप्टोकरेंसी ( Cryptocurrency ) एक डिजिटल मुद्रा है जिसे भौतिक रूप से न तो प्राप्त किया जा सकता न देखा जा सकता है। लगातर सभी ऑनलाइन होती सेवाओं में मुद्रा का डिजिटल होना तकनीकी के क्षेत्र में हो रही क्रांति का सबसे बड़ा प्रमाण है।


अक्सर लोग ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी तथा बिटकॉइन को एक ही समझ लेते हैं जबकि यह पूर्ण रूप से सत्य नहीं है। वर्तमान समय में क्रिप्टोकरेंसी में सबसे प्रमुख प्रकार बिटकॉइन है। 


आइए जानते हैं आखिर ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी क्या है तथा बिटकॉइन से कैसे भिन्न है?


ब्लॉकचेन एक टेक्नोलॉजी है जिसकी सहायता से किसी भी प्रकार की सूचना की मुख्य इकाई ( Main Unit ) को कई छोटी छोटी यूनिट्स में विभाजित करके बहीखाता या Ledger तैयार किया जाता है। यह बहीखाता या रिकॉर्ड सूचनाओं के अलग अलग ब्लॉक की एक Chain के रूप में होता है


यही कारण है कि इस टेक्नोलॉजी को Blockchain नाम दिया गया है। इस ब्लॉक की श्रंखला या नेटवर्क से जुड़े प्रत्येक व्यक्ति के पास सूचना का यह रिकॉर्ड मौजूद होता है। 


Blockchain की शुरुआत साल 1991 में स्टुअर्ट हैबर और डब्ल्यू. स्कॉट स्टोर्नेटा द्वारा की गई तथा पहली बार इस तकनीक का प्रयोग 2009 में क्रिप्टो-करेंसी बिटकॉइन के ट्रान्सेक्शन (लेन -देन ) में किया गया।


ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है?

आइये अब ब्लॉकचेन की कार्य प्रणाली को समझते हैं, किसी लेन-देन या सूचना का ब्लॉक में दर्ज होना दो चरणों में सम्पन्न होता है। इस प्रक्रिया में माइनर्स तथा नोड्स अपनी अपनी भूमिका निभाते हैं। 


अब पहले नोड्स के बारे में जानते हैं। नोड्स ब्लॉकचेन नेटवर्क से जुड़े ऐसे लोग हैं जिनके पास किसी विशेष ब्लॉकचेन नेटवर्क (Blockchain Technology in Hindi) का रिकॉर्ड उपलब्ध रहता है।


उदाहरण के तौर पर क्रीप्टो-करेंसी के लेन देन से संबंधित ब्लॉकचेन नेटवर्क की बात करें तो इस नेटवर्क में नोड की भूमिका में कार्य करने वाले व्यक्ति के पास क्रीप्टो-करेंसी में हुए लेन देन का शुरुआत से लेकर आखिरी ब्लॉक तक का रिकॉर्ड मौज़ूद होगा। 


अब आप जानते हैं कि कोई भी व्यक्ति आवश्यक संसाधनों की मदद से ब्लॉकचेन नेटवर्क से जुड़कर नोड के रूप में कार्य कर सकता है। वहीं माइनर्स नेटवर्क से जुड़े ऐसे लोग हैं जो नोड द्वारा प्राप्त किसी सूचना को सूचना के एक सुरक्षित ब्लॉक रूप में परिवर्तित करते हैं। आइए इस सम्पूर्ण प्रक्रिया को एक उदाहरण से समझते हैं।


1. मान लीजिए किसी क्रिप्टोकरेंसी यूजर ने एक ट्रांजैक्शन किया.


2. इस ट्रांजैक्शन का डेटा चेन पर एक दूसरे से जुड़े कंप्यूटर्स पर चला जाएगा, और इन्हें कहीं से भी एक्सेस किया जा सकेगा.


3. अगर ट्रांजैक्शन की वैलिडिटी यानी वैधता चेक करनी हो तो एल्गोरिदम से चेक कर लेते हैं.


4. इसकी वैलिडिटी कन्फर्म करने के बाद इस ट्रांजैक्शन के डेटा को पिछले सभी ट्रांजैक्शन के ब्लॉक में ऐड कर देते हैं.


5. यह ब्लॉक दूसरे ब्लॉक्स से जुड़ा होता है, जिससे कि लेज़र में इस ट्रांजैक्शन की जानकारी दर्ज हो जाती है.


एक नए ब्लॉक बनने की यह प्रक्रिया औसतन 10 मिनट में सम्पन्न होती है जिसके सम्पन्न होने के साथ ही माइनर्स को उपहार स्वरूप कुछ नए बिटकॉइन भी प्राप्त होते हैं। नेटवर्क में उपस्थित सभी माइनर्स के मध्य जल्द से जल्द सूचना का नया ब्लॉक बनाने की प्रतिस्पर्धा चलती रहती है। जटिल गणितीय प्रणाली को हल करने के लिए माइनर्स को अत्यधिक कंप्यूटर शक्ति तथा विद्युत की आवश्यकता होती है।


ब्लॉकचेन तकनीक सुरक्षित क्यों है?

एक ब्लॉकचैन ब्लॉक की एक श्रृंखला है जो हैश फ़ंक्शन में टाइमस्टैम्प के साथ डेटा रिकॉर्ड करता है ताकि डेटा को बदला या छेड़छाड़ नहीं किया जा सके। चूंकि डेटा को अधिलेखित नहीं किया जा सकता है, डेटा हेरफेर अत्यंत अव्यावहारिक है, इस प्रकार डेटा को सुरक्षित करना और केंद्रीकृत बिंदुओं को समाप्त करना जो साइबर अपराधी अक्सर लक्षित करते हैं।


इसके अलावा, निजी विश्लेषकों का कहना है कि पेंटागन का मानना ​​​​है कि ब्लॉकचैन टेक्नोलॉजी को साइबर सुरक्षा कवच के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है। द वाशिंगटन टाइम्स के एक लेख में, विश्लेषकों का मानना ​​​​है कि बिटकॉइन की तकनीकी रीढ़ ब्लॉकचैन का उपयोग करने से अमेरिकी सेना में सुरक्षा में नाटकीय रूप से सुधार हो सकता है, जिससे मेगा हैक्स, छेड़छाड़ और वाहनों, विमानों या उपग्रहों के साइबर अपहरण को रोका जा सकता है।


ब्लॉकचेन की सुरक्षा की कुंजी यह है कि डेटाबेस में किए गए कोई भी परिवर्तन एक सुरक्षित, स्थापित रिकॉर्ड बनाने के लिए सभी उपयोगकर्ताओं को तुरंत भेजे जाते हैं। सभी उपयोगकर्ताओं के हाथों में डेटा की प्रतियों के साथ, कुछ उपयोगकर्ताओं के हैक होने पर भी समग्र डेटाबेस सुरक्षित रहता है।


इस छेड़छाड़-रहित, विकेन्द्रीकृत सुविधा ने बिटकॉइन डिजिटल लेनदेन का समर्थन करने वाले अपने मूल कार्य से परे ब्लॉकचैन को तेजी से लोकप्रिय बना दिया है। उदाहरण के लिए, कई अत्याधुनिक वित्तीय फर्मों ने सुरक्षा से समझौता किए बिना प्रक्रियाओं में तेजी लाने और लागत में कटौती करने के लिए ब्लॉकचेन का उपयोग किया है।


हालांकि अन्य प्रणालियों पर ब्लॉकचेन के कई फायदे हैं, फिर भी अनुपालन, विनियमों और प्रवर्तन के मामले में कुछ चुनौतियां हैं जिन्हें संबोधित करने की आवश्यकता होगी।


उदाहरण के लिए, विनियामक मुद्दे क्षेत्राधिकार पर स्पष्टता की मांग करते हैं और केवाईसी (अपने ग्राहक को जानें) और एएमएल (मनी लॉन्ड्रिंग) कानूनों का पालन कैसे करें। लेकिन उत्तरोत्तर बढ़ती मांग और निगमों द्वारा स्वीकृति इन चुनौतियों को अनुमान से जल्द दूर करने में मदद करेगी।


ब्लॉकचेन तकनीक के प्रकार

ब्लॉकचेन तकनीक मुख्यतः दो प्रकार से कार्य करती है, पब्लिक ब्लॉकचेन तथा प्राइवेट ब्लॉकचेन ।


पब्लिक ब्लॉकचेन 

एक पब्लिक ब्लॉकचेन अनुमति रहित होता  है। कोई भी व्यक्ति नेटवर्क में शामिल हो सकता है और ब्लॉकचेन के भीतर पढ़, लिख सकता है या भाग ले सकता है। एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन विकेंद्रीकृत है और इसमें एक भी इकाई नहीं है जो नेटवर्क को नियंत्रित करती है। सार्वजनिक ब्लॉकचैन पर डेटा सुरक्षित है क्योंकि ब्लॉकचैन पर मान्य होने के बाद डेटा को संशोधित या परिवर्तित करना संभव नहीं है। बिटकॉइन और एथेरियम एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन के प्रसिद्ध उदाहरण हैं।


पब्लिक ब्लॉकचेन का प्रमुख उदाहरण क्रिप्टो-करेंसी का लेन-देन है। यह एक विकेन्द्रीकृत डेटाबेस है जिसे कोई भी व्यक्ति देख सकता है इसके अतिरिक्त कोई भी व्यक्ति आवश्यक संसाधनों की मदद से इस नेटवर्क में नोड की भूमिका में भी कार्य कर सकता है जिसके चलते यह नेटवर्क अधिक सुरक्षित है। 


प्राइवेट ब्लॉकचेन

एक निजी ब्लॉकचेन एक लाइसेंस प्राप्त ब्लॉकचेन है। निजी ब्लॉकचेन एक्सेस कंट्रोल पर आधारित काम करते हैं जो उन लोगों को प्रतिबंधित करते हैं जो नेटवर्क में भाग ले सकते हैं। एक या एक से अधिक संस्थाएं हैं जो नेटवर्क को नियंत्रित करती हैं और इससे लेनदेन के लिए तीसरे पक्ष पर निर्भरता होती है। एक निजी ब्लॉकचेन में, केवल लेन-देन में भाग लेने वाली संस्थाओं को ही इसके बारे में जानकारी होगी, जबकि अन्य इसे एक्सेस नहीं कर पाएंगे। लिनक्स फाउंडेशन का हाइपरलेगर फैब्रिक एक निजी ब्लॉकचेन का एक आदर्श उदाहरण है।


प्राइवेट ब्लॉकचेन  किसी कंपनी या संस्था विशेष का डेटाबेस होता है। इसकी पहुँच केवल अधिकृत लोगों तक ही होती है अतः यह एक केंद्रीय डेटाबेस के समान है, किंतु इसकी कार्यप्रणाली साधारण केंद्रीय डेटाबेस से भिन्न है। 


प्राइवेट ब्लॉकचेन में कुछ चुने हुए व्यक्ति नोड की भूमिका में कार्य करते हैं अतः यह पब्लिक ब्लॉकचेन की तुलना में कम सुरक्षित है। इसके अतिरिक्त छोटा नेटवर्क होने के कारण यहाँ सूचनाओं को ब्लॉक में बदलने का कार्य पब्लिक ब्लॉकचेन नेटवर्क की तुलना में कम समय में सम्पन्न हो जाता है। 



पब्लिक और प्राइवेट ब्लॉकचेन की समानताएं


  • दोनों एक परिशिष्ट-केवल खाता बही के रूप में कार्य करते हैं जहां रिकॉर्ड जोड़े जा सकते हैं लेकिन उन्हें बदला या हटाया नहीं जा सकता है। इसलिए, इन्हें अपरिवर्तनीय रिकॉर्ड कहा जाता है।
  • इन दोनों ब्लॉकचेन में प्रत्येक नेटवर्क नोड में लेज़र की पूरी प्रतिकृति होती है। दोनों कंप्यूटर के पीयर-टू-पीयर नेटवर्क पर विकेंद्रीकृत और वितरित हैं।
  • दोनों में, एक रिकॉर्ड की वैधता को सत्यापित किया जाता है, इस प्रकार एक महत्वपूर्ण स्तर की अपरिवर्तनीयता प्रदान करता है, जब तक कि अधिकांश प्रतिभागी सहमत न हों कि यह एक वैध रिकॉर्ड है और आम सहमति तक पहुंचता है। यह रिकॉर्ड के साथ छेड़छाड़ को रोकने में मदद करता है।
  • दोनों ब्लॉकचेन वितरित बहीखाता में संपादन को प्रमाणित करने के लिए कई उपयोगकर्ताओं पर भरोसा करते हैं और इस प्रकार एक नई मास्टर कॉपी के निर्माण में मदद करते हैं जिसे हर समय हर कोई एक्सेस कर सकता है।


पब्लिक और प्राइवेट ब्लॉकचेन के बीच अंतर

  • एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन के परिमाण का क्रम एक निजी ब्लॉकचेन की तुलना में कम होता है क्योंकि यह हल्का होता है और लेनदेन संबंधी थ्रूपुट प्रदान करता है।
  • प्रतिभागियों को दी गई पहुंच का स्तर- सार्वजनिक ब्लॉकचेन में, कोई भी ब्लॉकचैन में डेटा को सत्यापित और जोड़कर भाग ले सकता है। निजी ब्लॉकचेन में, केवल अधिकृत संस्थाएं ही नेटवर्क में भाग ले सकती हैं और नियंत्रित कर सकती हैं। उदाहरण बिटकॉइन और एथेरियम हैं।
  • एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन विकेंद्रीकृत होता है, जबकि एक निजी ब्लॉकचेन अधिक केंद्रीकृत होता है। उदाहरण- हाइपरलेगर और रिपल।
  • सर्वसम्मति एल्गोरिदम जैसे बीता हुआ समय का प्रमाण (PoET), बेड़ा, और इस्तांबुल BFT का उपयोग केवल निजी ब्लॉकचेन के मामले में किया जा सकता है।
  • निजी ब्लॉकचेन की तुलना में सार्वजनिक ब्लॉकचेन में प्रति सेकंड लेनदेन कम होता है। चूंकि निजी ब्लॉकचेन में अधिकृत प्रतिभागियों की संख्या कम है, यह प्रति सेकंड सैकड़ों या हजारों लेनदेन की प्रक्रिया कर सकता है।
  • स्केलेबिलिटी के मुद्दों के मामले में एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन एक निजी ब्लॉकचेन के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकता है क्योंकि यह धीमा है और इसलिए लेनदेन को केवल धीमी गति से ही संसाधित कर सकता है। एक निजी ब्लॉकचेन में, चूंकि डेटा को प्रबंधित करने के लिए केवल कुछ नोड्स की आवश्यकता होती है, लेनदेन का समर्थन किया जा सकता है और बहुत अधिक गति से संसाधित किया जा सकता है।
  • सार्वजनिक ब्लॉकचेन भरोसेमंद हैं, और एक निजी ब्लॉकचैन सेटअप में, प्रतिभागियों को एक दूसरे पर भरोसा नहीं करना चाहिए। एक निजी ब्लॉकचेन में, रिकॉर्ड की वैधता को स्वतंत्र रूप से सत्यापित नहीं किया जा सकता है क्योंकि निजी नेटवर्क की अखंडता अधिकृत नोड्स की विश्वसनीयता पर निर्भर करती है।
  • विकेंद्रीकरण और सक्रिय भागीदारी के कारण एक सार्वजनिक नेटवर्क अधिक सुरक्षित है। नेटवर्क में नोड्स की संख्या अधिक होने के कारण, 'बुरे अभिनेताओं' के लिए सिस्टम पर हमला करना और सर्वसम्मति नेटवर्क पर नियंत्रण हासिल करना लगभग असंभव है। एक निजी ब्लॉकचेन हैक, जोखिम, और डेटा उल्लंघनों / हेरफेर के लिए अधिक प्रवण होता है। बुरे अभिनेताओं के लिए पूरे नेटवर्क को खतरे में डालना आसान है।
  • एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन एक निजी ब्लॉकचेन की तुलना में अधिक ऊर्जा की खपत करता है क्योंकि इसे कार्य करने और नेटवर्क आम सहमति प्राप्त करने के लिए महत्वपूर्ण मात्रा में विद्युत संसाधनों की आवश्यकता होती है। निजी ब्लॉकचेन बहुत कम ऊर्जा और बिजली की खपत करते हैं।
  • एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन में, पूरे नेटवर्क की देखरेख के लिए एक केंद्रीकृत प्राधिकरण तक पहुंच प्रदान करना आवश्यक है, इस प्रकार इसे इस समय एक निजी ब्लॉकचेन बना दिया जाता है। एक निजी ब्लॉकचेन में, जो कोई भी नेटवर्क की देखरेख कर रहा है, वह अपनी आवश्यकताओं के अनुसार किसी भी लेनदेन को बदल या संशोधित कर सकता है।
  • एक निजी ब्लॉकचेन में, मामूली टक्कर की कोई संभावना नहीं है। प्रत्येक सत्यापनकर्ता ज्ञात है और उनके पास नेटवर्क का हिस्सा बनने के लिए उपयुक्त क्रेडेंशियल हैं। लेकिन एक सार्वजनिक ब्लॉकचेन में, कोई नहीं जानता कि प्रत्येक सत्यापनकर्ता कौन है और इससे संभावित मिलीभगत या 51% हमले का खतरा बढ़ जाता है (खनिकों का एक समूह जो नेटवर्क की कंप्यूटिंग शक्ति के 50% से अधिक को नियंत्रित करता है)।


ब्लॉकचेन तकनीक के अनुप्रयोग (Application of Blockchain Technology in Hindi)

मुख्य रूप से इस तकनीक का अधिकतर उपयोग क्रिप्टो-करेंसी के लेन-देन में ही किया जा रहा है इसलिए ज्यादातर लोग इस तकनीक को केवल क्रिप्टो-करेंसी या बिटकॉइन से जोड़कर देखते हैं। 


क्रिप्टो-करेंसी के लेन देन के अतिरिक्त भी निम्नलिखित क्षेत्रों में ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग किया जा सकता है। 

  • सूचना प्रौद्योगिकी और डाटा प्रबंधन 
  • सरकारी योजनाओं का लेखा-जोखा 
  • सब्सिडी वितरण 
  • कानूनी कागज़ात रखने 
  • बैंकिंग और बीमा 
  • भू-रिकॉर्ड विनियमन 
  • डिजिटल पहचान और प्रमाणीकरण
  • स्वास्थ्य आँकड़े
  • साइबर सुरक्षा
  • क्लाउड स्टोरेज
  • ई-गवर्नेंस
  • स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट
  • शैक्षणिक जानकारी 
  • ई–वोटिंग


फायदे एवं नुकसान

फायदे

सुरक्षित - चूंकि यह एक ओपन सोर्स लेज़र है, इसलिए प्रत्येक लेनदेन को सार्वजनिक किया जाता है। यह धोखाधड़ी के लिए कोई जगह नहीं छोड़ता है। ब्लॉकचेन की अखंडता की निगरानी नाबालिगों द्वारा की जाती है, जिनकी नजर सभी लेनदेन पर होती है।

कोई तीसरे पक्ष का हस्तक्षेप नहीं - किसी भी सरकार या वित्तीय संस्थान के पास ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित क्रिप्टोकरेंसी का नियंत्रण नहीं है। इसका मतलब है कि कोई भी सरकार मुद्रा के मूल्य के साथ हस्तक्षेप नहीं कर सकती है।

सुरक्षित लेनदेन - सभी लेनदेन का रिकॉर्ड रखने के लिए जिम्मेदार ब्लॉकचेन को संपादित या हेरफेर नहीं किया जा सकता है। लेन-देन के दोनों छोर और जनता किसी भी समय लेन-देन के डेटा को देख सकती है। यह ऑनलाइन लेनदेन को और अधिक सुरक्षित बनाता है।

तत्काल लेनदेन - ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी लेनदेन कुछ ही मिनटों में पूरा हो जाता है। उदाहरण के लिए एक अलग बैंक खाते वाले व्यक्ति के साथ किए गए बैंक लेनदेन को लें। लेनदेन को पूरा करने में कम से कम दो दिन लगते हैं। इस समय, क्रिप्टो के साथ वर्चुअल लेनदेन करने वाला व्यक्ति लेनदेन की एक श्रृंखला को पूरा कर सकता है।

नुकसान


क्रिप्टोकरंसी की तरह, ब्लॉकचेन तकनीक के भी दो पहलू हैं। यहाँ ब्लॉकचेन तकनीक के कुछ नुकसान भी हैं।

अपडेट करने और त्रुटियों को दूर करने में कठिनाइयाँ

एप्लिकेशन को P2P नेटवर्क के प्रत्येक नोड पर अपडेट किया जाना चाहिए या यदि नोड्स का कोई भी भाग संशोधनों को स्वीकार नहीं करता है, तो उसे फोर्क किया जाना चाहिए।

समर्पित उद्देश्यों के लिए नेटवर्क की मजबूती की आवश्यकता 

सभी अनुप्रयोगों के पीछे एक व्यावसायिक तर्क होता है। तर्क परिभाषित करता है कि व्यावसायिक आवश्यकताओं के संदर्भ में नए अनुप्रयोगों को कैसे काम करना चाहिए। स्वभाव से, ब्लॉकचेन एक सख्त तर्क का उपयोग करता है जो लाभ के नुकसान के बिना रीडिज़ाइन की अनुमति नहीं देता है, जिससे ब्लॉकचेन समाधान के लिए तार्किक व्यावसायिक परिवर्तनों की आवश्यकता होती है।

एप्लीकेशन का  विस्तार करने में कठिनाई

सर्वसम्मति प्राप्त करने और शुरुआत से स्केलिंग की अनुमति देने के लिए बहुत जटिल प्रोटोकॉल लागू करना बहुत महत्वपूर्ण है। बाद में नई सुविधाओं को जोड़ने और नेटवर्क या फोर्किंग के पुनर्वितरण के बिना एप्लिकेशन का विस्तार करने की उम्मीद में कोई भी विचार जल्दबाजी में लागू नहीं कर सकता है।

डेटा को संग्रहीत और पुनर्प्राप्त करने के लिए अनुप्रयोगों को सामान्य रूप से तृतीय-पक्ष API की आवश्यकता नहीं होती है। विकेंद्रीकृत ऐप को अन्य डैप पर भी निर्भर नहीं होना चाहिए। यह सिद्धांत में अच्छा लग सकता है लेकिन व्यवहार में कठिनाइयों का कारण बनता है।

अपराध - कुछ अनुप्रयोगों को उपयोगकर्ता की पहचान सत्यापित करने की आवश्यकता होती है क्योंकि उपयोगकर्ता की पहचान सुनिश्चित करने के लिए कोई केंद्रीय प्राधिकरण नहीं है, कुछ विकेंद्रीकृत ऐप्स का विकास एक गंभीर समस्या बन जाता है।

गुमनामी या उपयोगकर्ता पहचान की कमी एक गंभीर बाधा है और अपराधियों द्वारा अवैध लेनदेन करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है।

नई तकनीक की जानकारी  - ज्यादातर लोग ब्लॉकचेन तकनीक को तकनीक की समझ रखने वाले लोगों के लिए मानते हैं। आपको लेन-देन करने, क्रिप्टो स्टोर करने, उसका व्यापार करने और बहुत कुछ करने के लिए तकनीक से परिचित होना होगा।

मानवीय त्रुटि - ब्लॉकचेन तकनीक को संपादित या संशोधित नहीं किया जा सकता है, जिसका अर्थ है कि इस पर सभी जानकारी 100% सटीक होनी चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आप ब्लॉकचैन तक पहुंचने के लिए उपयोग की जाने वाली निजी कुंजी खो देते हैं, तो नेटवर्क तक पहुंच प्राप्त करना लगभग असंभव है।


Final Words (अंतिम शब्द )

दोस्तो मुझे पूरा यकीन है इस पोस्ट में आपको Blockchain Technology के बारे में कई महत्त्वपूर्ण  जानकारीयां मिली होंगी। मैंने इस पोस्ट में आपको Blockchain Technology के बारे में बताने का पूर्ण प्रयास किया है, अगर आप Blockchain Technology के बारे में और अधिक जानना चाहते हैं तो कमेन्ट कर अपने सुझाव दें। तथा इस लेख को अपने मित्रों व सम्बन्धियों के साथ अवश्य शेयर करें। 

कोई टिप्पणी नहीं:
Write टिप्पणियाँ

We have Zero Tolerance to Spam. Cheesy Comments and Comments with 'Links' will be deleted immediately upon our review.

Latest Stories